Paryavaran Sadhna

The Environmental Website

प्रकृति का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करना विकास नहीं है: महात्मा गांधीजी

प्रकृति का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करना विकास नहीं है: महात्मा गांधीजी
0 0
प्रकृति का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करना विकास नहीं है: महात्मा गांधीजी
Read Time:25 Second

गांधीजी का पर्यावरण के बारे में एक दीर्घकालिक दृष्टिकोण था। उनका मानना  था की “आप प्रकृति से जो लेते हैं वह आपको वापस करना चाहिए।प्रकृति का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करना विकास नहीं है बल्कि प्रकृति का संरक्षण करना और  उत्पादन  करना विकास है।”

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

प्रकृति का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करना विकास नहीं है: महात्मा गांधीजी